हमारा छुटकारा

प्रत्येक मसीही छुटकारा पाया हुआ व्यक्ति है। एक समय हम अन्धकार के राज्य में थे परन्तु अब ज्योति के राज्य में हैं। हमारा छुटकारा वर्त्तमान वास्तविकता है। ऐसा नहीं है कि हम भविष्य में शैतान के राज्य से स्वतन्त्र होने की आशा कर रहे हों। इसकी कीमत पहले ही चुकाई जा चुकी है। हम स्वतन्त्र किए जा चुके है।